भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री में सार्थक फिल्मों का दौर

B4U, के एसोसिएट वाईस प्रेसिडेंट, रीजनल प्रोग्रामिंग हेड संदीप सिंह का दावा

0 137

भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री पर अक्सर अश्लील फिल्में बनाने के आरोप लगते आये हैं। लेकिन वक्त के साथ भोजपुरी सिनेमा का स्वरूप में काफी बदलाव हुए हैं। यही वजह है कि कभी फूहड़ फिल्में बनाने के लिए तानों का शिकार होने वाली भोजपुरी इंडस्ट्री आज सार्थक फिल्में बनाने वाली इंडस्ट्री के रूप में उभर रही है एवं पूरे देश में अपनी एक अलग पहचान स्थापित कर रही है। भोजपुरी फिल्मे अब केवल बिहार-झारखंड या यूपी तक ही सीमित नही है, बल्कि देशभर में उसके दर्शको की संख्या में इजाफा हो रहा है और नेपाल में भी उसका बोल-बाला बना हुआ है।

दरअसल हालीवुड और बालीवुड की तरह भोजपुरी इंडस्ट्री में भी एक्सपेरीमेंटल सिनेमा का दौर चल पड़ा है। अच्छी फिल्म बनाने के उदेश्य से डायरेक्टर, फिल्मों से लेकर किरदारों, कलाकारों के लुक पर काफी रिसर्च और एक्सपेरीमेंट कर रहे हैं ताकि दर्शकों के समक्ष एक अच्छा सिनेमा प्रस्तुत कर सकें एवं भोजपुरी इंडस्ट्री को भी राष्ट्रीय एवं अंतराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति दिला सकें।

भोजपुरी कलाकार भी अपने अभिनय के दमखम पर पूरे देश में अपनी एक खास पहचान बनाने में कामयाब हुए हैं। उनका घुसपैठ आज सोशल मीडिया से लेकर टीक-टोक तक बना हुआ है। हिन्दी सिने जगत भी भोजपुरी कलाकारों का लोहा मान चुके हैं, यही वजह है कि हिन्दी फिल्मों में भी अब भोजपुरी कलाकार नजर आने लगे हैं। हिन्दी चैनल्स भी अपनी टीआरपी में इजाफा करने के लिए भोजपुरी कलाकारो का सहारा ले रहे हैं। हिंदी के बड़े रियालटी शोज में भोजपुरी कलाकार का नजर आना भोजपुरी सिनेमा को मिल रही सफलता की निशानी है।

लेकिन भोजपुरी फिल्मों के प्रति दर्शकों का नजरिया बदलने में B4U भोजपुरी चैनल ने सबसे बड़ी भूमिका निभाई है, ।

B4U भोजपुरी चैनल पर लगातार बेहतरीन भोजपुरी फिल्मे प्रदर्शित की जा रही हैं। भोजपुरी सिनेमा पर लगातार लगाए जा रहे अश्लीलता के आरोपों पर B4U के एसोसिएट वाईस प्रेसिडेंट रीजनल प्रोग्रामिंग हेड संदीप सिंह ने अपने जवाबो के साथ विराम चिन्ह लगा दिया है। संदीप सिंह ने एक साक्षात्कार के दौरान बताया कि भोजपुरी सिनेमा, निरंतर सार्थक फिल्मे बनायीं जा रही हैं। चैनल पर दिखाई जाने वाली फिल्मे किसी एक वर्ग को ध्यान में रख कर नहीं बनायीं गयी हैं बल्कि इन फिल्मो में बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक सब जुड़े हैं। ये भोजपुरी सिनेमा का ही कमाल है कि अब न केवल उससे भोजपुरी बल्कि हिंदी दर्शक भी जुड़ते जा रहे हैं और इस संख्या में लगतार इजाफा हो रहा है। वहीं B4U के मार्केटिंग हेड हर्षल जैन ने कहा कि हम वहीं परोस रहे हैं, जो बनाया जा रहा है। अगर फिल्में अच्छी न होती तो शायद हम इन्हे दर्शको के सामने कभी प्रस्तुत नहीं कर पाते। आकड़े यही बताते हैं कि भोजपुरी का मार्केट काफी अच्छा है और ये लगातार व्यापक हो रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: