बिहार के बाढ़ पीड़ितों को छह-छह हजार मिलने शुरू

0 119

पटना:- बाढ़ पीड़ित परिवारों के बैंक खातों में छह-छह हजार रुपये सहायता राशि का भुगतान शुक्रवार को शुरू हो गया। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक अणे मार्ग में माउस क्लिक कर पहले चरण में 11 जिलों के तीन लाख दो हजार 329 परिवारों के खाते में 181 करोड़ 39 लाख रुपये का भुगतान किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में अब भी कुछ ऐसे परिवार हैं जो सरकारी योजनाओं के बारे में नहीं जान पाते हैं। अधिकारियों को निर्देश दिया कि बाढ़ पीड़ित परिवारों की पहचानकर तत्काल उनके बैंक खाते खुलवाएं, ताकि समय पर योजना का लाभ मिल सके। प्रचार-प्रसार से लोगों को जागरूक करें कि जिन बाढ़ पीड़ित परिवारों के बैंक खाते नहीं हैं, वे जल्द अपने खाते खुलवा लें।

पीएफएमएस प्रणाली से हुआ भुगतान

बाढ़ से प्रभावित सभी परिवार को राशि का भुगतान पीएफएमएस प्रणाली (पब्लिक फाइनेंसियल मैनेजमेंट सिस्टम) से सीधे उनके के बैंक खाते में किया गया। अगले 48 घंटे में राशि खाताधारक को मिल जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सिस्टम बहुत अच्छा और पारदर्शी है। मौके पर आपदा प्रबंधन मंत्री लक्ष्मेश्वर राय, मुख्य सचिव दीपक कुमार, प्रधान आपदा प्रबंधन सचिव प्रत्यय अमृत, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, सचिव अनुपम कुमार, सीएम के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह, मुख्यमंत्री के अपर सचिव चंद्रशेखर सिंह भी मौजूद थे।

किस जिले में कितने परिवार को भुगतान हुआ

जिला परिवार राशि

सीतामढ़ी 77457 46.47 करोड़

दरभंगा 67028 40.21 करोड़

अररिया 42441 25.46 करोड़

पूर्वी चंपारण 31190 18.71 करोड़

पूर्णिया 20738 12.44 करोड़

शिवहर 8861 5.31 करोड़

किशनगंज 3724 2.23 करोड़

मधुबनी 35222 21.13 करोड़

मुजफ्फरपुर 6855 4.11 करोड़

सहरसा 4967 2.98 करोड़

सुपौल 3846 2.30 करोड़

परिवारों की पहचान का कार्य जारी : मंत्री

आपदा प्रबंधन मंत्री लक्ष्मेश्वरराय ने कहा कि बाढ़ पीड़ित जितने परिवारों की पहचान हो चुकी थी, उन्हें राशि का भुगतान कर दिया गया। शेष की पहचान की जा रही है। इसके बाद सभी परिवारों को सहयाता राशि दी जाएगी। बैंक खाते में राशि जाने के बाद लाभार्थी को एसएमएस से सूचित किया जा रहा है। राज्य में अभी 130 राहत शिविर चलाए जा रहे हैं। इन शिविरों में एक लाख 12 हजार लोग रह रहे हैं। 1119 सामुदायिक किचेन बनाए गए हैं, जिनसे लोगों को भोजन मुहैया कराया जा रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: