बिहार सरकार से यूडीए के सात दिन में सात सवाल

0 318

यूनाइटेड डेमोक्रेटिक एलायंस ने सात दिन में बिहार सरकार से सात सवाल पूछने का फैसला किया है। यह निम्नलिखित हैं-

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

  1. नौ साल पहले पटना के राजेंद्र नगर में तत्कालीन खेल मंत्री सुखदा पांडे ने हॉकी मैदान का शिलान्यास किया था। लेकिन आज तक इसका निर्माण कार्य अधूरा पड़ा है। जिस हॉकी एस्ट्रोटर्फ का उद्घाटन वर्ष 2011 में सीएम नीतीश कुमार ने किया था उसका कोई रिकार्ड कला संस्कृति और युवा विभाग के पास नहीं है। ऐसा क्यों?
  2. ताज़ा सर्वेक्षण से पता चला है कि देश के सर्वाधिक गंदे शहरों में पटना क्रमांक एक पर है। 10 लाख की आबादी वाले टॉप 10 शहरों में छह बिहार के हैं-1.बक्सर, 2.भागलपुर 4. परसा बाजार, 5. बिहार शरीफ, 9. सहरसा। क्या 15 वर्षों की नीतीश सरकार ने गंदगी के मामले में देश में पहला स्थान प्राप्त किया है?
  3. बिहार में कानून व्यवस्था का हाल लचर है । पिछले एक सप्ताह में पटना में कारोबारी की हत्या एवं डबल मर्डर, भागलपुर में डबल मर्डर, गोपालगंज में ट्रिपल मर्डर, गया में लूट के बाद डबल मर्डर आदि घटनाएं। राज्य में दिन दहाड़े हत्याएं हो रही हैं। शासन-प्रशासन ई आंख मूंदी हुई है। राज्य की जनता आखिर कबतक भय और आतंक के साये में जीने को विवश रहेगी?
  4. नीतीश राज में बिहार गैंगरेप का प्रदेश बन चुका है। बलात्कार के मामले दोगुने हो चुके हैं। बिहार पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक हर 6 घंटे में बलात्कार की एक घटना होती है। महिला सुरक्षा के प्रति सरकार इतनी सुस्त क्यों है?
  5. राज्य के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने पिछले दिनों कहा था कि एनडीए सरकार ने सड़क, पुल बिजली का काम 2018 में ही पूरा कर लिया था। अब यह चुनाव का मुद्दा नहीं है। माननीय पटना उच्च न्यायालय ने पिछले हफ्ते राज्य में सड़कों की बदहाली एवं बिजली की दुर्दशा को लेकर राज्य सरकार से स्पष्टीकरण मांगा है। क्या राज्य सरकार के पास इसका कोई जवाब है? ठीक चुनाव के समय राज्य के उपमुख्यमंत्री ने जनता को बरगलाने की कोशिश की है। सच्ची यह है कि आधारभूत संरचना के मामले में बिहार अन्य प्रदेशों से बहुत पीछे हैं।
  6. पूर्णिया का बिहार टॉकिज रोड 6 महीने भी नहीं टिक पाया। राज्य में भ्रष्टाचार चरम पर है। सुशासन बाबू का मौसम ही भ्रष्टातार का रहता है। ऐसा बिहार में ही होता है कि कभी उद्घाटन के पूर्व तो कभी उद्घाटन के कुछ दिनों बादसही सड़कें और पुल टुट जाते हैं। मुख्यमंत्री कार्यालय की मिलीभगत के बिना यह संभव है क्या?
  7. सीतामढ़ी का प्रसिद्ध रीगा चीनी मिल बंद होने के कगार पर है। प्रबंधन ने हाथ खड़े कर दिए हैं।

7-8 वर्षों से यह घाटे में चल रहा है। मिल प्रबंधन सरकार से लगातार मदद की गुहार लगा रहा है।      लेकिन उसकी सुनने वाला कोई नहीं है। अब चीनी मिल को चलाना उनके लिए संभव नहीं है। सरकार के ऊपर मिल का 18 करोड़ का बकाया है। गन्ना किसानों का 100 करोड़ का भुगतान लंबित है। 600 कर्मियों के भविष्य पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। राज्य के कई पुराने उद्योग पहले से बंद हैं। राज्य सरकार की सुस्ती के कारण एक और मिल बंद होने जा रहा है। राज्य सरकार किसानों के हित और युवाओं के रोजगार से क्यों खिलवाड़ कर रही है?

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: