अब रांची में दोपहिया टैक्सी सेवा का सस्ता विकल्प

रैपिड बाइक टैक्सी सेवा में युवा वर्ग को भी मिलेगा रोजगार

0 434

रांची। बेंगलुरू की कंपनी रेपिडो बाइक टैक्सी ने रांची में एप आधारित दोपहिया टैक्सी सेवा लांच की है। यह परिवहन को नई दिशा देने की एक शानदार पहल है। तेज , सुरक्षित और मौजूदा साधनों से ज्यादा किफायती। इसमें बाइक के शौकीन युवाओं को रोजगार का भी बेहतरीन अवसर मिलेगा। यह सेवा पहले 3 किलोमीटर की दूरी के लिए मात्र 19 रुपये में और इसके बाद प्रति किलोमीटर 3 – 5 रुपये दर पर उपलब्ध होगी। इसके अलावा रैपीडो ने यूजर्स की जरूरत के मुताबिक कई बेहतरीन पावर पास स्कीम भी निकाली है जिसकी कीमत 1 रुपये से 50 रुपये तक है। इसकी वैधता 7 दिनों से लेकर 30 दिनों तक की होगी और इसमें यूजर्स को प्रत्येक राइड पर 30 से लेकर 60 रु. तक का डिस्काउंट मिलता रहेगा। पावर पास स्कीम एप में मौजूद है । यह स्कीम कॉलेज स्टूडेंट्स , आफिस कर्मियों तथा ज्यादा यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए लाभदायक है।

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

रैपिडो के राइडर्स बुकिंग होने के 2 से 4 मिनट के अंदर यूजर्स के पास पहुंच जायेंगे। यूजर्स और राइडर को इंश्योरेंस का लाभ भी मिलेगा। रैपिडो बाइक टैक्सी की ऑफिसियल लांच एवं ट्रैफिक अवेयरनेस समारोह में फेडरेशन ऑफ चेम्बर ऑफ कॉमर्स, झारखंड के प्रेसिडेंट कुणाल अजमानी मुख्य अतिथि तथा जनरल सेक्रेटरी धीरज तनेजा  गेस्ट ऑफ ऑनर के रूप में शामिल हुए। उन्होंने रैपिडो बाइक टैक्सी के कॉन्सेप्ट की सराहना करते हुए इसे रांची के लिए बेहतर विकल्प बताया। रैपिडो के रीजनल मैनेजर, नितिन गुप्ता ने कहा कि  रैपिडो बाइक का कॉन्सेप्ट रांची की जनता के लिए नया और बेहतर विकल्प प्रस्तुत करता है। यह तेज, सुरक्षित और कम खर्च पर एक जगह से दूसरी जगह ले जाने का जरिया होगा। उन्होंने कहा कि उनकी कंपनी बाइक राइडर्स को रोजगार देने का काम करेगी। बेंगलुरु स्थित इस कंपनी ने पारंपरिक तिनपहिया तथा चौपहिया वाहन सेवा की परंपरा को बदलते हुए बाइक टैक्सी की नई शुरुआत की है। यह ट्रैफिक जाम के दौरान यात्रियों को होने वाली परेशानियों से बचाते हुए सही समय उनके गंतव्य तक पहुंचाने का माध्यम साबित हुई है। रैपिडो खास तौर पर उन लोगो के लिए और भी भरोसेमंद साबित हो रहा है जिन्हें किसी एग्जाम के लिए देर हो रही हो या तत्काल कहीं पहुंचना हो।ऐसे मामलों में कार या बस की तुलना में बाइक तेजी से चलती है। हर किसी क पास बाइक हो और वह उसे चलाना भी जानता हो, जरूरी नहीं है। ऐसे लोगों के लिए रैपिडो की बाइक टैक्सी सेवा बेहतर है।

रैपिडो भारत के 60 शहरों में अपना सेवा दे रही है। इस बाइक-टैक्सी बुकिंग ऐप पर एक मिलियन से अधिक सर्टिसफाइड कंज्यूमर्स और 30 मिलियन से अधिक राइडर्स हैं। इसके ऐप को एंड्रॉइड या आइओएस फोन में आसानी से प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। ऐप के माध्यम से आप अपने पिकअप और ड्रॉप प्लान को डालकर सवारी बुक कर सकते हैं। एक राइडर आपको आपके स्थान से पिक कर गंतव्य तक पहुंचा देगा। यूजर्स को ऐप डाउनलोड करना होगा। कंपनी अपने सभी ग्राहकों को हेलमेट के साथ सुरक्षित यात्रा की गारंटी देगी। कंपनी सड़क सुरक्षा नियमों का सख्ती से पालन करती है।

कंपनी हर किसी को कैप्टन के रूप में साइनअप कर अच्छी आमदनी का जरिया देती है। रैपिडो कैप्टन बनने के लिए आपके पास एक दोपहिया वाहन, एक एंड्राइड फोन और ड्राइविंग लाइसेंस होना चाहिए। वर्तमान में , भारत में कई रैपिडो कैप्टन हर महीने 30 हजार रुपये तक कमाते हैं। रैपिडो अपने कैप्टन को सवारी की लागत का एक हिस्सा और कई सुविधाएं देती है। रैपिडो के पास इस समय देश में करीब 5,00,000 कैप्टन हैं, उनमें महिलाएं भी शामिल हैं। रैपिडो बाइक्स ने वर्ष 2015 में अपनी सेवा शुरू की और सिर्फ 4 वर्षों में पूरे देश में अपनी सेवाओं का विस्तार किया। कंपनी यात्रियों के साथ कैप्टन का भी बहुत ध्यान रखती है। कंपनी के पास दोहरी हेलमेट नीति है। यात्रियों को स्वच्छता के लिए शॉवर कैप भी प्रदान की जाती है। ऐप में जीपीएस लाइव ट्रैकिंग , एसओएस और लाइव चैट की सुविधा भी है। इसमें यूजर्स को अपने विश्वसनीय संपर्कों के साथ सवारी शेयर करने का ऑप्शन भी है। यात्रियों और कैप्टन का बीमा बाइक पर बैठते ही शुरू होकर गंतव्य पर पहुंचने तक होता है ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: