विनीत फालक को मिला एक और अवार्ड

0 252

बंगलुरू। देश और अंतरराष्ट्रीय स्तर की ‘इंटीरियर डिजाइनिंग’ और उच्च स्तरीय कार्य के लिए युवा आर्किटेक और डिजाइनर विनीत फालक को “प्रतिभा सम्मान गोल्डन पीकॉक अवार्ड 2020” से सम्मानित किया गया।
इस राष्ट्रीय स्तर के प्रतिभा सम्मान का आयोजन ऑनलाइन किया गया था। जहां इंटीरियर डिजाइनर, आर्किटेक्ट को चुनकर उन्हें ऑनलाइन बुलाया गया और उन्हें “गोल्डन पीकॉक अवॉर्ड 2020” से एडवोकेट कृष्णा जी जगवाले द्वारा सम्मानित किया गया।
जहां देश विदेश की तमाम हस्तियों ने शिरकत की जिसमें प्रोफेसर अजय चंद्रन लीला कंसल्टेंसी की सुश्री लीना कुमार प्रमुख थी। इस अवसर पर विनीत का कहना है कि ‘ईश्वर और अपने परिवार के आशीर्वाद से मेरे कैरियर की अभी तक की यात्रा बहुत ही सफल रही है। मैं सभी का धन्यवाद देना चाहता हूं मैं बहुत खुश हूं कि मेरी कला, प्रतिभा और प्रयास को देश-विदेश में सराहा जा रहा है। इन अवॉर्ड्स के बाद अब मेरी जिम्मेदारी और भी बढ़ गई है और मुझे इससे भी बेहतर भविष्य में साबित करना होगा। इसी के साथ विनीत सामाजिक कार्यों से भी जुड़े हुए हैं और समय-समय पर जरूरतमंदों की भी मदद करते रहते हैं।
कोरोना के इस संकट काल में भी कुछ लोगों ने अपनी प्रतिभा का सही इस्तेमाल करते हुए अपनी कंपनी ‘यूनिक इंटीरियो’ के अंतर्गत बहुत ही क्वालिटी काम किये हैं । इसीलिए उन्हें क्वालिटी सर्विस कैटेगरी के अंतर्गत “मोस्ट प्रामिसिंग फ्रीलांस इंटीरियर डिजाइनर ऑफ द ईयर 2020” का अवार्ड ‘नेशनल आर्किटेक्चर एंड इंटीरियर डिजाइन कॉन्फ्रेंस, होटल ताज, बैगंलोर में दिया गया।
इस अवसर पर प्रसिद्ध आर्किटेक्ट और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ आर्किटेक्ट कर्नाटक के भूतपूर्व अध्यक्ष कृष्णाराव जयसिंम ने भी इस उद्योग को पूरा समर्थन दिया।

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: