सिद्धू को सीएम नहीं बनने देंगे कैप्टन अमरिंदर

0 91

अमृतसर। पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब में नई सियासी पार्टी बनाने की घोषणा कर दी है। इस घोषणा के बाद पंजाब में सियासी समीकरण बदलने लगे हैं। कैप्टन की नजर पंजाब के तमाम सियासी दलों के नाराज नेताओं पर है, उन्हीं को साथ लेकर वे अपनी नई टीम तैयार करेंगे।

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

वे कांग्रेस में भी सेंध लगा सकते हैं। जिन नेताओं का टिकट कटेंगे उन्हें कैप्टन अपनी टीम में शामिल होने की दावत देंगे। कैप्टन को कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल समेत कई दिग्गजों का साथ मिल रहा है। सिब्बल तो यहां तक कह चुके हैं कि लोग पार्टी छोड़कर जा रहे हैं, सुष्मिता चली गईं, सिंधिया, जितिन प्रसाद चले गए, दूसरे लोग भी छोड़कर जा रहे हैं। जिस तरह से कैप्टन अमरिंदर सिंह को मुख्यमंत्री पद से हटाया गया है, वे खुद को अपमानित महसूस कर रहे हैं।

कैप्टन कांग्रेस को इसका सबक सिखाना चाहते हैं और उन्होंने एलान कर रखा है कि वे किसी सूरत में सिद्धू को सीएम नहीं बनने देंगे। कैप्टन ने यह भी कहा है कि वह किसानी मुद्दों पर हल निकालने का पूरा प्रयास करेंगे। अगर कैप्टन इसमें सफल हो जाते हैं तो वे निश्चित तौर उन्हें पंजाब में एक मजबूत जमीन मिल जाएगी। साथ ही वे किसान आंदोलन की चुनौती से भाजपा को निकाल सकते हैं, क्योंकि उनके किसानों के साथ बेहतर संबंध हैं।

 कैप्टन अमरिंदर सिंह का खुद का जनाधार है, जो अमृतसर से लोकसभा सीट जीत चुके हैं और भाजपा के दमदार चेहरा रहे स्व. अरुण जेटली को हरा चुके हैं। कैप्टन ने इशारा कर दिया है कि वे भाजपा से नाराज नेता, अकाली दल व आप से टूट चुके नेताओं को साथ लेकर चलेंगे।

 कैप्टन की नजर कांग्रेस के टिकट वितरण पर है क्योंकि इतना तय है कि टिकटों के बंटवारे को लेकर कांग्रेस में हाय तौबा मचेगी क्योंकि सिद्धू अपनी मनमर्जी से टिकटों की बांटेंगे जो चुनाव के बाद उनको सीएम पद पर बैठा सकें। सिद्धू के खिलाफ पंजाब में काफी बड़ा धड़ा खड़ा हो चुका है, जिसमें सुखजिंदर रंधावा व चरणजीत सिंह चन्नी प्रमुख हैं। लिहाजा, कैप्टन ने अपने धड़े के नेताओं को यह कहकर ऑक्सीजन दे दी है कि वे अपनी पार्टी बनाएंगे। उनका इशारा है कि अगर कांग्रेस उनके धड़े के नेताओं की टिकट काटती है तो वे उनकी झोली में आ सकते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: