डबल इंजन की सरकार ने भी नहीं किया विकासः जलेश्वर महतो

0 137

धनबाद: बाघमारा में कोलियरियों का स्वर्ग मना जाता है लेकिन दस साल में माननीय की रंगदारी व गुंडागर्दी के कारण के कारण कोलियरी नर्क बना हुआ है. जिसके कारण दस हजार मजदूरों को रोजगार छिन गया. कोयला व्यवसायों का डिओ लगना बंद हो गया. गुण्डागर्दी से तंग आकर कई डीओ धारक अपना धंधा बंद कर क्षेत्र से पलायन कर गये. दस सालों में 500 से अधिक ट्रक आॅनरों ने अपना ट्रक को बेचकर क्षेत्र से पलायन कर गये. कोलडंपों में रंगदारी का विरोध जताने वाले बाघमारा के विनोद जैसे कई ट्रक आनर विवश होकर आत्महत्या कर ली. बीसीएसएल के एरिया एक से लेकर पांच तक के कोलडंपों में हजारों लोकल सेल मजदूरों का रोजी रोटी रंगदारों ने छिन ली. आउट सोर्सिंग एंव रेलवे साइडिंग में काम करने वाले मजदूरों को जलेश्वर महतो के कार्यकाल में 14-16 हजार रूपया स्कील पैमेंट मिलता था. लेकिन माननीय की रंगदारी के कारण मजदूरों को पैमेंट अब 3-4 हजार मिल रहा है. इतने कम पैसे में मजदूरों को अपना घर चलाना मुश्कील हो गया. टर्म पूरा होने से पहले ही तीन आउट सोर्सिंग कंपनियां अपना कामकाज समेट कर चले गये. करीबन दो हजार मजदूरों के सामने बेरोजगारी की समस्या उत्पन्न हो गयी.
जनता ने जिसको सेवक चूना वो निकला लुटेराः बाघमारा का विकास पुरूष प्रत्याशी जलेश्वर महतो का कहना है कि उनके कार्यकाल में क्षेत्र में शांति थी. लोग खुश्हाल थे. गांवों को विकास देखने को मिलता था. बाघमारा को विकास माॅडल पुरे झारखंड में अव्वल था. विकास कार्यो में कहीं रंगदारी नहीं थी. गांव का विकास कार्य शिक्षित बेरोजगार करते थे. कार्य में कहीं भ्रष्टाचार नहीं था. लेकिन दस साल के बाद स्थिती उलट है. विकास कार्य के नाम पर माननीय द्धारा 40 प्रतिशत कमीशन वसूली की गयी. जनता ने जिसको सेवक चूना वहीं लुटेरा निकाला.
माननीय ने किया बाघमारा का विनाशः लोगों को अच्छे दिन का सपना दिखाने वाले माननीय ने दस साल में बाघमारा को विनाश कर दिया. न ही विकास का जाल बिछा पाया और न ही नये उद्योग लगा पाये. न कोई इंजीनियरिंग काॅलेज खुलवा सके. न ही नये उद्योग या कोलियरी खुले, बल्कि दस हजार से अधिक असंगठित मजदूरों के हाथ से काम छिन लिया. विस्थापितों को न ही जमीन के बदले नियोजन मिला. कई कोयला व्यवसाय अपना धंधा बंद कर यहां से पलायन कर गये. एक के बाद एक निवेशकों के भागने की कतार लग गयी. अगर गुण्डाराज्य कायम नही होता तो यहां बडे़-बडे आउट सोर्सिंग कंपनियां काम शुरू करती तो हजारों बेरोजगारों को रोजगार मिलता..
जलेश्वर युवाओं के लिए उम्मीद की किरणः महागठबंधन प्रत्याशी जलेश्वर महतो को जिताने के लिए पूर्व मंत्री ओपी लाल, कांग्रेस के प्रदेश सचिव रणविजय सिंह, शकील अहमद, झामुमो के प्रखंड अध्यक्ष रतिलाल टुडू, अजमुल अंसारी, रंजीत महतो, राजद के जिलाध्यक्ष तारकेश्वर यादव ,रोहित यादव, युवा नेता सुमित महतो जैसे कई दिग्गज नेता कृतसंकल्प है. दिनरात एक करके जनता से वोट मांग रहे है. ओपी लाल का कहना है कि जलेश्वर के नेतृत्व में ही बाघमारा का विकास संभव है. रणविजय सिंह ने कहा जलेश्वर युवाओं के लिए उम्मीद की किरण है.

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: