9 बजे 9 मिनट: देशभर में बत्ती बुझी, दीया-मोमबत्ती जलाकर दिखाई एकता

0 201

देश में कोरोना वायरस का संकट बढ़ता ही जा रहा है. संकट की इस घड़ी में देशवासियों ने एकजुटता का संदेश दिया. प्रधानमंत्री मोदी की अपील पर देशभर के लोगों ने रविवार की रात ठीक नौ बजे नौ मिनट के लिए अपने घरों की लाइटे बंद कर दी. लाइटे बंद करके लोगों ने अपने घर के बाहर दीये, मोमबत्ती, टॉर्च और मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाकर एकजुटता दिखाई.

 

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

दरअसल, पीएम मोदी ने जनता से अपील की थी कि 5 अप्रैल की रात 9 बजे 9 मिनट के लिए लोग अपने घरों की लाइटें बंद करें और दरवाजे-खिड़की पर खड़े होकर दीया, मोमबत्ती जलाएं या फिर मोबाइल की फ्लैश लाइट-टॉर्च से रोशनी करें.

मोदी ने कहा था कि कोरोनावायरस के कारण होने वाले अंधेरे को चुनौती देना है. यह 130 करोड़ भारतीयों की महाशक्ति को जगाने के लिए भी है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: