राष्ट्रपति अवार्ड के बाद बीआईटी मेसरा में सम्मानित हुए रवि कुमार

राष्ट्रीय शिक्षा दिवस पर मिला पुरस्कार

0 452

एक छोटे से गांव में जन्म लेकर बड़ी पहचान बनाने वाली प्रतिभाएं गांव-समाज का ही नहीं देश का भी नाम रौशन करती हैं। ऐसे ही बहुमुखी प्रतिभा के धनी हैं चौपारण निवासी रवि कुमार।  राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के मौके पर एनएसएस बीआईटी मेसरा ने शिक्षाविद् एवं पर्यावरणविद् रवि कुमार को सम्मानित किया। वे चौपारण प्रखण्ड के ग्राम पंचायत दैहर निवासी हैं। उन्हें अपने विशिष्ट कार्यों के लिए राष्ट्रपति अवार्ड से पहले ही नवाज़ा जा चुका है। अब रवि कुमार लगातार शिक्षा के क्षेत्र दैहर गांव का नाम रौशन कर रहे हैं। बीआईटी मेसरा के कार्यक्रम के मुख्य अतिथि बीआईटी मेसरा के कार्यकारी कुलपति डॉ पदमनी पद्यनाभन एवं कुलसचिव डॉ एपी कृष्णा, बीआइटी मेसरा के डीन सह एनएसएस अध्यक्ष डॉ. आनंद कुमार सिन्हा, राज्य एनएसएस पदाधिकारी डॉ. ब्रजेश कुमार ने समाज सेवा में बेहतर कार्य करने के लिए रवि कुमार एवं उनके सहयोगी विपिन कुमार सिंह को सम्मानित किया था। रवि कुमार एवं विपिन कुमार सिंह का पर्यावरण संरक्षण, तकनीकी शिक्षा, पौधरोपण, रक्तदान शिविर, निःशुल्क चिकित्सा शिविर एवं स्वच्छता अभियान में महत्वपूर्ण योगदान रहा है। सम्मान समारोह के मौके पर रवि कुमार ने कहा कि शिक्षा इनसान को आंतरिक और बाह्य ताकत प्रदान करने का महत्वपूर्ण यंत्र है। क्षेत्र का नाम रौशन करने के लिए इनके परिजनों, बीडीओ अमित कुमार श्रीवास्तव व राष्ट्रपति से सम्मानित प्रशांत कुमार एवं निशांत कुमार ने रवि कुमार को बधाई दी है।

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: