झूठे वादों और दावों का पुलिंदा है भाजपा का संकल्प पत्र : सुबोधकांत सहाय

0 186

रांची। भाजपा का चुनावी संकल्प पत्र पूरी तरह झूठ पर आधारित है। इसमें पांच वर्षों के अंदर भाजपा की ओर से किए गए कार्यों का जो विवरण दिया गया है, वह पूरी तरह हवा-हवाई और जुमलेबाजी का नमूना है। उक्त बातें कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सह पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय ने संकल्प पत्र पर टिप्पणी करते हुए कही। उन्होंने कहा कि जो दावे संकल्प पत्र में हैं, वह जमीन पर कहीं दिखाई नहीं देती। संकल्प पत्र में दावा किया गया है कि चार साल में 68 लाख घरों में बिजली पहुंची है। 10 सबग्रिड पावर स्टेशनों का निर्माण हो चुका है। 3,28,000 एलईडी स्ट्रीट लाइट लगाए जा चुके हैं। इसमें यह नहीं बताया गया है कि 68 लाख घरों में बिजली के तार पहुंचे हैं या बिजली भी जलने लगी है। कितने स्ट्रीट लाइट जल रहे हैं। राजधानी रांची के लोगों को गर्मी के मौसम में नियमित रूप से पंखे की हवा तक नहीं मिल पाती है। अंधेरे में रातें काटनी पड़ीं। दूर-दराज इलाकों में तो बिजली मेहमान की तरह कभी-कभार आती रही। जीरो पावर कट का वादा था और 12-12 घंटे तक लोडशेडिंग होती रही। निजी क्षेत्र की कई विद्युत उत्पादक कंपनियों को सरकार की गलत नीतियों के कारण बोरिया-बिस्तर समेटकर वापस लौट जाना पड़ा। पतरातु थर्मल पावर प्लांट मृतप्राय है। डीवीसी के बकाया का कभी पूरी तरह भुगतान नहीं हो पाया। बार-बार आपूर्ति में कटौती की धमकियां मिलती रहीं।
पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री सहाय ने कहा कि संकल्प पत्र में पांच वर्षों में 22 हजार से अधिक किलोमीटर तक सड़कें बनाने का दावा है और अगली बार सभी जिलों तक 8 लेन राजमार्गों का कोरिडोर बनाने का वादा किया गया है। मुख्यमंत्री को बताना चाहिए कि रांची-टाटा हाई- वे की क्या हालत है। जनता को इस रोड के जीर्णोद्धार का लंबे समय से इंतजार है। रांची-गुमला हाइवे अभी तक रांची शहर में चार लेन नहीं हो सका। अरगोड़ा-कटहल मोड़ रोड पर कहीं जल जमाव है, तो कहीं गड्ढे। उन्होंने कहा कि भाजपा को संकल्प पत्र में उन वायदों का जिक्र भी करना चाहिए था जो पूरे नहीं हो सके।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: