समाजवादी नेता पूरनचंद की जयंती मनाई

स्वतंत्रता सेनानी व पूर्व मंत्री थे पूरनचंद

0 127

रांची। राष्ट्रीय ओबीसी मोर्चा के तत्वावधान में हरमू स्थित आशीर्वाद भवन में प्रखर स्वतंत्रता सेनानी एवं एकीकृत बिहार के पूर्व खान-भूतत्व मंत्री व समाजवादी नेता पूरनचंद की जयंती प्रदेश अध्यक्ष राजेश कुमार गुप्ता की अध्यक्षता में मनाई गई। कार्यक्रम की शुरूआत उनके तस्वीरों पर माल्यार्पण और पुष्पांजलि अर्पित कर याद किया गया। पुष्पांजलि अर्पित करने के पश्चात प्रदेश अध्यक्ष राजेश कुमार गुप्ता ने कहा कि स्व.पूरन चंद बड़े स्वतंत्रता सेनानी, समाजवादी प्रखर व सादगी से रहने वाले नेता थे। उन्होंने समाजसेवा के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया। बिहार सरकार में खान भूतत्व मंत्री रहने के बावजूद भी अपने परिवार के लिए कुछ भी नहीं किए। बल्कि समाज सेवा के प्रति सदैव लगे रहे। वर्तमान समय में आज के समाज के लिए प्रेरणा स्रोत हैं। उनके जीवन का अनुसरण कर समाज को नई दिशा दी जा सकती है आज उनके विचारधारा पर चलने से ही समाज के अंतिम व्यक्ति को विकास हो सकता है।
इस मौके पर प्रदेश उपाध्यक्ष संजय चौरसिया, ओम साहू,अखिल भारतीय तैलिक साहू समाज के युवा राष्ट्रीय अध्यक्ष अधिवक्ता अशोक चौरसिया, महासचिव रघुनाथ शरण चौधरी, गुरु प्रसाद, इंजीनियर विजय साहू, आरबी सहाय, धर्म दयाल साहू, झारखंड तेली संघर्ष मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष धनेश्वर साहू, बंधु साहू, अजय चौधरी, अजीत चौधरी, केडी सोनी, अजय साहू सहित कई लोग उपस्थित थे। धन्यवाद ज्ञापन उपाध्यक्ष संजय चौरसिया ने ने किया। यह जानकारी मीडिया प्रभारी अशोक महतो ने दी।

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: