झारखंड मंत्रालय में संविधान दिवस मनाया गया

मुख्य सचिव डीके तिवारी ने संविधान की प्रस्तावना को दोहराया, 11 मौलिक कर्तव्यों की जानकारी दी

0 99

राँची। झारखंड मंत्रालय के प्रांगण में संविधान दिवस मनाया गया। इस अवसर पर  मुख्य सचिव डॉ डी के तिवारी ने कहा कि संविधान राष्ट्र को एक सूत्र में पिरोता है। देश के हर नागरिक को मौलिक दायित्वों का जानकारी रखना आवश्यक है। देश के संविधान की बदौलत ही मजबूत लोकतंत्र और अखण्ड़ भारत का निर्माण हुआ।भारत रत्न बाबा साहेब डॉ भीम राव अम्बेडकर की अगुवाई में भारत का संविधान तैयार हुआ। उन्होंने देश को एक सूत्र में बांधने का काम किया है। उक्त बातें मुख्य सचिव ने आज झारखंड मंत्रालय के प्रांगण में संविधान दिवस के अवसर पर सभी पदाधिकारी, अधिकारी, कर्मीगण को संविधान की प्रस्तावना की शपथ दिलाने से पहले अपने संबोधन में कहीं।

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

भारत का संविधान सभी लोगों के लिए समान कानून और समान अधिकार का आधार है

मुख्य सचिव डॉ डी के तिवारी ने कहा कि समाज में सभी लोगों का मौलिक दायित्व होता है। भारत का संविधान सभी लोगों के लिए समान कानून और समान अधिकार का आधार है। देश के हर नागरिक को संविधान से मिले अपने मौलिक अधिकारों का उपयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश में समान कानून और संविधान देना एक बड़ी चुनौती थी परंतु भारत रत्न एवं महान समाज सुधारक बाबा साहेब ने अथक मेहनत और प्रयास कर एक समतामूलक संविधान की रचना की और देश को एक सूत्र में जोड़े रखने का काम किया।

संविधान निर्माता डॉ भीम राव अम्बेडकर का सपना साकार होगा

उन्होने कहा कि आज का दिन शपथ लेने का दिन है कि हम सब देश के लोकतंत्र की मजबूती के लिए काम करें जिससे संविधान निर्माता डॉ भीम राव अम्बेडकर का सपना साकार होगा।

मुख्य सचिव ने संविधान की प्रस्तावना की शपथ दिलाई और हमारे मौलिक कर्तव्यों की जानकारी दी।

कार्यक्रम में मुख्य सचिव डॉ डी के तिवारी ने संविधान की प्रस्तावना को पढ़ा। प्रांगण में उपस्थित सभी पदाधिकारी अधिकारी एवं कर्मियों ने संविधान की प्रस्तावना को दोहराया। मुख्य सचिव ने संविधान में प्रावधान किए गए 11 मौलिक कर्तव्यों के बारे में भी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि अगले एक साल में एक कैलेंडर के तहत् इसके संबंध में सभी नागरिकों को जानकारी दिए जाने और जागरूक करने के लिए अभियान चलाया जाएगा।

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव सह विकास आयुक्त श्री सुखदेव सिंह, अपर मुख्य सचिव सह वित्त सचिव श्री के के खंडेलवाल, प्रधान सचिव स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग श्री एपी सिंह, प्रधान सचिव विधि विभाग श्री प्रदीप श्रीवास्तव, कैबिनेट सचिव श्री अजय कुमार सिंह, सहित सभी वरीय पदाधिकारी एवं कर्मीगण उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: