बाल दिवस पर दिव्यांग बच्चों ने की शत-प्रतिशत मतदान की अपील

बच्चों के साथ बच्चा बनना किसे पसंद नहींः उपायुक्त, देवघर

0 139

देवघर। देवघर के समाहरणालय स्थित सभागार में उपायुक्त  नैंसी सहाय ने दिव्यांग बच्चों के साथ बाल दिवस मनाया। उन्होंने केक काटकर बच्चों को बाल दिवस की बधाई और शुभकामनाएं दी। साथ ही शतप्रतिशत मतदान की शपथ भी दिलाई। बच्चों के साथ समय बिताने के दौरान उपायुक्त ने कहा कि छोटे-छोटे बच्चों के चेहरे पर मुस्कान देखना व उनके साथ समय बिताना हम सभी को अच्छा लगता है। इसके अलावा उपायुक्त ने बच्चों के उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि जीवन मे कुछ बेहतर बनने के लिए आप सभी को काफी मेहनत कर अपने लक्ष्य को प्राप्त करना है।
उपायुक्त श्रीमती नैंसी सहाय ने जिलावासियों से अपील करते हुए कहा कि दिव्यांग जनों के प्रति नागरिकों का विशेष कर्त्तव्य है। उन्होंने कहा कि संपन्न व समर्थ लोगों को अभावग्रस्त लोगों की सहायता करनी चाहिये। दिव्यांग जन को देखकर जो भावनायें मन में उत्पन्न होती हैं उनसे सहायता का भाव हम सभी में अवश्य पैदा होता है। बस जरूरत है, उसे पूरा करने की।
इस दौरान उन्होंने संबंधित अधिकारियों व स्कूल प्रबंधन को निदेशित किया कि दिव्यांग बच्चों की बेहतरी हेतु जो भी जरूरतें है, उनका प्रारूप तैयार कर उपायुक्त कार्यालय को दें।
इस मौके पर  उप विकास आयुक्त शैलेन्द्र कुमार लाल, प्रशिक्षु आईएएस रवि आनंद, डीआरडीए निदेशक  नयनतारा केरकेट्टा, कार्यपालक दण्डाधिकारी मीनाक्षी भगत व संबंधित अधिकारी आदि उपस्थित थे।

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: