झारखंड के कल्याण के लिए भाजपा को हराना जरूरीः जैनेंद्र तथागत

0 219

रांची। रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (ए) के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जैनेंद्र तथागत ने भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साधा है। श्री तथागत के मुताबिक भाजपानित सरकार के शासन में देश के अंदर महंगाई और बेरोजगारी बढ़ी है। अर्थ व्यवस्था बेहद कमजोर हो गई है। झारखंड में भी पलायन और लूट-खसोट में बढ़ोत्तरी हुई है। झारखंड के कल्याण के लिए चुनाव में भाजपा को हराना जरूरी है। श्री तथागत ने खिजरी विधानसभा क्षेत्र से प्रीतम सांड लोहरा, सिल्ली से दीपक मांझी, ईचागढ़ से ई. प्रवेश गोप, सिमरिया से हरदीप कुमार राम और बेरमो से कौलेश्वर रविदास को भारी मतों से विजयी बनाने की अपील की है। साथ ही जमशेदपुर पूर्वी से सरयू राय, बोकारो से कांग्रेस, निरसा से मासस के अरूप चटर्जी, सिंदरी से आनंद महतो, बगोदर से माले प्रत्याशी विनोद कुमार सिंह और शेष जगहों से महागठबंधन प्रत्याशियों को समर्थन देने की घोषणा की है।

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

उल्लेख्य है कि जैनेंद्र जी झारखंड में लंबे समय से दलितों और आदिवासियों के बीच सक्रिय रहे हैं। वे मूलतः आंबेडकरवादी हैं। पहले बसपा में थे लेकिन उन्होंने महसूस किया कि वहां सामंती व्यवस्था चल रही है। आंबेडकर के बते रास्ते पर चलने की जगह व्यक्तिपूजा की प्रवृति है। बसपा से मोहभंग होने के बाद आरपीआई सुप्रीमो केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने उन्हें अपनी पार्टी में आने का न्यौता दिया जिसे इन्होंने स्वीकार कर लिया। श्री तथागत की पहल पर पार्टी की झारखंड राज्य कमेटी का गठन हुआ और पहली बार विधानसभा चुनाव में अपने प्रत्याशी उतारे हैं। स्री तथागत की जिम्मेवारी राष्ट्रीय स्तर पर है लेकिन उनके अनुसार पूर्वांचल के राज्यों में संगठन का विस्तार कर दलित आंदोलन को नई धार देना उनकी प्राथमिकता होगी।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: