राष्ट्रीय ओबीसी मोर्चा की बैठक

महागठबंधन की सरकार ओबीसी समुदाय की समस्यायों पर ध्यान दें : राजेश गुप्ता

0 132

रांची / सिमडेगा। राष्ट्रीय ओबीसी मोर्चा की एक महत्वपूर्ण बैठक परिसदन सिमडेगा के सभागार में शीतल प्रसाद की अध्यक्षता में हुई। जिसके मुख्य अतिथि राष्ट्रीय ओबीसी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष राजेश कुमार गुप्ता थे। प्रदेश अध्यक्ष श्री गुप्ता ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि चुनाव के पूर्व राष्ट्रीय ओबीसी मोर्चा के मुद्दे को हल करने का वचन महागठबंधन (कांग्रेस,राजद और जेएमएम ) के मुखिया हेमंत सोरेन ने दी थी। राष्ट्रीय ओबीसी मोर्चा को उम्मीद है कि वर्तमान हेमंत सोरेन के नेतृत्व में महागठबंधन की सरकार निकट भविष्य में ओबीसी समुदाय के प्रमुख मुद्दे को हल करेगी। बैठक को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि संगठन अभी जिले स्तर पर कार्य कर रही है। जिसे प्रखंड, पंचायत और गांव तक विस्तार देने का लक्ष्य है। जिस तरह से राष्ट्रीय ओबीसी मोर्चा ने चुनाव में आह्वान किया था कि महागठबंधन विश्वसनीय गठबंधन है। कांग्रेस की मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ सरकार ने ओबीसी का आरक्षण 14% से बढ़ाकर 27%किया था और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भी अपने घोषणा पत्र में पिछड़ों को आरक्षण 27% करने का वचन दिया था। इसको देखते हुए राज्य में ओबीसी समुदाय को महागठबंधन के पक्ष में मतदान करने की अपील की थी। जिसे सिमडेगा जिले के दोनों विधानसभा क्षेत्रों में ओबीसी समुदाय के लोगों ने एक तरफा मतदान कर महागठबंधन के दोनों प्रत्याशियों को जिताने का काम किया है। जिले के ओबीसी समुदाय इसके लिए बधाई के पात्र हैं। राष्ट्रीय ओबीसी मोर्चा को उम्मीद है कि इस राज्य के माटी की पार्टी और माटी का बेटा हेमंत सोरेन राज्य के मूलनिवासी( एससी एसटी और ओबीसी समुदाय) को उनका उचित प्रतिनिधित्व देने का काम करेंगे। सिमडेगा जिले के सभी ब्लॉक, पंचायत और ग्राम स्तर पर संगठन को विस्तार देने के लिए जिला स्तरीय एक संयोजक मंडली का चयन किया गया है। इस संयोजक मंडली के मुख्य संयोजक विष्णुदेव प्रसाद व सदस्य के रूप में मनोरंजन कुमार गुप्ता, जगदीश साहू, विनोद प्रसाद, विजय कुमार, रमेश ठाकुर, मुरारी प्रसाद, अनूप प्रसाद ,शीतल प्रसाद, पुरुषोत्तम गुप्ता का नाम प्रमुख है। संयोजक मंडली को प्रदेश अध्यक्ष ने अति शीघ्र संगठन का विस्तार करने का निर्देश दिया है।

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: