झारखंड के नौकरशाहों का अगला पड़ाव बनी राजनीति

0 377

रांची। झारखंड के नौकरशाह सेवानिवृत्ति के बाद सीधे राजनीति में उतरने लगे हैं। इसी क्रम में 1987 बैच के पुलिस अधिकारी रेजी डुंगडुंग, अपर पुलिस महानिरीक्षक भी बीआरएस लेकर जन सेवा के लिए राजनीति मैदान में उतर पड़े हैं। श्री डुंगडुंग भारतीय पुलिस सेवा के तेज तर्रार व कर्तव्यनिष्ठ पुलिस अधिकारी के रूप में पहचाने जाते हैं। वे पुलिस अधीक्षक के रूप में जहां भी पदस्थापित रहे हैं वहां उन्होंने अपने कार्यों से अपनी पहचान बनाई है और जनता के बीच लोकप्रिय रहे हैं डीआइजी आईजी पद रहते हुए उन्होंने काफी बेहतर कार्य किया जिसका परिणाम है कि अपर पुलिस महानिरीक्षक पद पर रहते हुए उन्होंने जन सेवा के लिए राजनीति में कदम रखा उनकी लोकप्रियता का अनुमान इसी बात से लगाया जा सकता है कि उनके कार्यक्रम में विशाल जन समूह उनके साथ होता है उनके कार्यक्रम और जन सम्पर्क कार्यक्रम में विशाल जन समूह उनके साथ होता है उनकी मृदुभाषिता और व्यवहार कुशलता से लोग काफी प्रभावित है सिमडेगा विधानसभा के क्षेत्र के लोग इनसे काफी प्रभावित है सिमडेगा विधानसभा क्षेत्र के लोग इस बात से काफी प्रसन्नचित्त है कि उनके बीच उनके बीच झारखंड प्रांत के लोकप्रिय पुलिस महानिरीक्षक बीआरएस लेने वाले पुलिस अधिकारी का मानना है कि क्षेत्र का विकास जनता के समस्याओ का निराकरण एवं जनता के हित में कार्यों का निष्पादन के लिए ही वे राजनीति में आये है और उन्हें जनता का समर्थन भी मिल रहा है

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: