वीरांगना का वनभोज सह मिलन समारोह आयोजित

* बेटियां और बच्चे हुए सम्मानित

0 147

जमशेदपुर। अंतरराष्ट्रीय क्षत्रिय वीरांगना फाउंडेशन की झारखंड प्रदेश की कोल्हान जोन इकाई द्वारा शनिवार को निक्को जुबली एम्यूजमेंट पार्क में वनभोज का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में वीरांगना की अंतरराष्ट्रीय महासचिव भारती सिंह और विशिष्ट अतिथि के रूप में महानगर भाजपा महिला मोर्चा की अध्यक्ष नीरू सिंह उपस्थित थीं। वनभोज में उपस्थित सभी वीरांगनाओं ने संगठनात्मक मुद्दों और आगामी आयोजनों को लेकर विचार विमर्श किया। वनभोज में आयोजित विभिन्न प्रतिस्पर्द्धाओं में प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त करने वाली कई बेटियों को सम्मानित भी किया गया। आयोजन में प्रभा सिंह, इंदु सिंह, सरोज सिंह, सीमा सिंह, नूतन सिंह, विभा सिंह, रूबी सिंह, एडवोकेट दीपा सिंह, रजनी सिंह, संजू सिंह, नीलू सिंह, पूनम सिंह, गुड़िया सिंह, पूजा सिंह, मंजू सिंह, सुनीता सिंह, चित्रलेखा सिंह, शशिप्रभा सिंह, रिंकू सिंह, कृष्णा सिंह, पूर्णिमा सिंह, रिद्धि सिंह, माधवी सिंह, शालिनी सिंह, राखी सिंह, सुनीता सिंह, संजू सिंह, कल्पना सिंह, सौम्या सिंह, शशि सिंह, उषा सिंह, प्रियंका सिंह, सोनी सिंह, कंचन सिंह, गुनगुन सिंह, रेनु सिंह, प्रतिमा सिंह आदि उपस्थित थीं l
* इन्हें किया गया सम्मानित :
विभिन्न प्रतियोगिताओं में अव्वल आने पर दीपा सिंह, शालिनी, सीमा सिंह, रूबी सिंह, प्रतिमा सिंह, रिंकू सिंह, अगम्या सिंह, अदिति सिंह को सम्मानित किया गया। वहीं, बच्चों में प्रिंस, अभिराज और आशीष को पुरस्कृत किया गया। उक्त जानकारी वीरांगना, कोल्हान जोन की अध्यक्ष प्रभा सिंह ने दी।

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: