गंजेपन का शर्तिया इलाज

0 318

आज के समय में सिर के बाल झड़ने की समस्या आम है। कम उम्र में ही लोग गंजे होने लगते हैं। इस समस्या का निदान जड़ी-बूटियों के जरिए संभव है। ऐसे नुस्खे हैं जिनसे न सिर्फ बालों को झड़ने से रोका जा सकता है बल्कि झड़े हुए हिस्से में दुबारा बाल उगाया भी जा सकता है। बस थोड़ी सी मेहनत करनी होगी। तिब्बत के लोग बालों को घना बनाए रखने के लिए जड़ी बूटियों का इस्तेमाल करते हैं। इसका एक आसान सा नुस्खा है। रीठा, शिकाकाई, आंवला और अमरबेल यह चारों चीजें बाजार में आसानी से उपलब्ध हो जाती हैं। इन्हें 25-25 ग्राम की मात्रा में ले लें। फिर अच्छी तरह धोकर सुखा लें। जब इनकी नमी खत्म हो जाए तो इन्हें सिलबट्टे पर पीस लें। फिर इनके चूर्ण को सरसो तेल में मिलाकर रख लें। कुछ दिनों बाद तेल का रंग लाल हो जाएगा।

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

इस तेल को रात को सोने के समय अच्छी तरह सिर में मालिस करें। बालों की जड़ों तक इसे रगड़ें। फिर पतला कपड़ा बांधकर आराम से सो जाएं। सुबह के समय शैंपू से सिर धो लें। हर तीन दिन के अंतराल पर यह प्रयोग करें। कुछ ही दिनों में बालों का झड़ना रुक जाएगा और जड़ों से नये बाल उगने लगेंगे। गंजेपन की समस्या खत्म हो जाएगी और सिर सुंदर बालों से ढक जाएगा। आपके व्यक्तित्व में निखार आ जाएगा और आत्मविश्वास में बढ़ोत्तरी होगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: