गरीबों और जरूरतमंदों के बीच योगदा सत्संग ने बांटे खाद्यान्न सहित अन्य सामग्री

0 166

रांची : कोरोना लॉकडाउन के दौरान योगदा सत्संग ने राजधानी रांची और आसपास के गांवों के गरीबों, बेरोजगारों को 15 हजार किलो खाद्यान्न उपलब्ध कराकर सहायता पहुंचाई। शनिवार को योगदा आश्रम द्वारा जारी विज्ञप्ति में बताया गया है कि विश्वव्यापी संकट की इस घड़ी में लॉकडाउन-2 के अंतिम दिनों में लेकरोड, शिवाजी नगर, हटिया, नामकोम, रेलवे कॉलोनी, लेनदापीड़ी, बरंडी जैसी जगहों पर 15 सौ किलो चावल, 600 किलो दाल, 225 लीटर सरसों तेल, 900 किलो आलू, 400 किलो प्याज, हल्दी-नमक के 400 पैकेट, 1,750 साबुन और 450 मास्क 500 जरूरतमंद परिवारों के बीच वितरित किये गए। इसके अलावा लोगों को कोरोना संबन्धी जानकारी और हिदायतें देने के लिए हर सहायता शिविर में डॉक्टर की मौजूदगी रही।
आश्रम के एक वरिष्ठ संन्यासी ने कहा कि योगदा सत्संग के संस्थापक परमहंस योगानंद ने मनुष्य को गरीबों-जरूरतमंदों के हृदय में आशा और उत्साह का संचार वैसे ही करना चाहिए, जैसे सूर्य किरणें हर किसी की तीमारदारी करती हैं। ईश्वर की नजरों में वही व्यक्ति सफल होता है, जो दूसरों को प्रसन्नता प्रदान कर प्रसन्न होता है। कोरोना संकट काल में इसी भावना से प्रेरित होकर योगदा सत्संग अलग-अलग तारीखों में अलग-अलग जगहों पर सहायता शिविर का आयोजन कर रहा है। इस क्रम में जरूरतमंद परिवारों को चिन्हित कर अबतक 15 हजार किलो सूखे खाद्यान्न, चार हजार किलो प्याज, सात हजार किलो आलू, 1,750 लीटर सरसों तेल, 1,200 किलो नमक, 150 किलो हल्दी पाउडर, 33 हजार साबुन और 9,400 मास्क उपलब्ध कराए जा चुके हैं। आश्रम यह सेवा कार्य जारी रखेगा। इसमें सहभागी बनने के इच्छुक सज्जन https://yssofindia.org/donate.php पते पर संपर्क कर सकते हैं।

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

पुस्तकः विश्व की प्राचीनतम सभ्यता लेखकः पं. अनूप कुमार वाजपेयी,कई पुरस्कारों से पुरस्कृत समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली, मुजफ्फरपुर, मूल्य-2000 रुपये लेखक ने राजमहल पहाड़ियों और चट्टानों पर संसार के प्राचीनतम आदिमानव के पदचिन्ह ढूंढ निकाले। पता-वाजपेयी निलयम, नया पारा, दुमका झारखंड

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: